Sunday, November 28, 2021

न्यूज़ अलर्ट
1) अमित शाह ने रखी आजमगढ़ में स्टेट यूनिवर्सिटी की आधारशिला .... 2) ठाणे में काव्यगोष्ठी और कार्यशाला संपन्न.... 3) जूम पर मुंह दिखाई, फिर डिजिटल पेमेंट के बाद बकरे की विदाई!.... 4) याद किये गए काकोरी के शहीद .... 5) "इंतेज़ार" के लिए शूट होगा एक हॉरर रैप प्रमोशनल सांग.... 6) पेंशनभोगियों के लिए EPFO ने जारी किया अलर्ट, नवंबर में न करें ये काम.... 7) वंदे भारत मिशन: विदेशों से 6.87 लाख से अधिक भारतीय लौटे, विदेश मंत्रालय ने दी जानकारी....
ज़िन्दगी को तपा लिया मैंने / ग़ज़ल 
Thursday, September 12, 2019 - 1:44:54 PM - By अज्ञात 

ज़िन्दगी को तपा लिया मैंने / ग़ज़ल 
कौन नहीं है, किसकी कमी है, दिल क्यों हैराँ आज भी है......
ज़िन्दगी को तपा लिया मैंने.....

ज़िन्दगी को तपा लिया मैंने, उसका कुन्दन बना लिया मैंने |
आँधियाँ जिसको रोशनी देंगी उस शमा को जला लिया मैंने ||

घटाओं उट्ठो बिजलियाँ लेकर, लो नशेमन बना लिया मैंने |
ग़म तो मरहम है दिल के ज़ख्मों पर, दर्द को दिल बना लिया मैंने……

हसीं ये महफ़िल जाम भरा है, मस्त वो नगमा आज भी है |
दिल का नशेमन ना जाने क्यों तिनका तिनका आज भी है ||

कौन नहीं है, किसकी कमी है, दिल क्यों हैराँ आज भी है |
जाने क्या हम खो बैठे जो चाक गिरेबाँ आज भी है ||

घुँघरू तेरे झनकारें तो दिल में होती हलचल सी |
पर इनमें ना जाने किसका ग़म ये नुमायाँ आज भी है ||

दिल में बसी हैं कितनी यादें, कितनी मुरादें जी में हैं |
पगला ये दिल ना जाने क्यों तनहा तनहा आज भी है ||

हम आए हैं लेकर अपनी तनहाई इन हाथों में |
सनम दिखा दे तेरी महफ़िल जवाँ जवाँ क्या आज भी है ??

साक़ी आज पिला दे इतनी, बेहोशी में खो जाएँ |
वरना तेरी महफ़िल में दिल वीराँ वीराँ आज भी है ||