Sunday, December 4, 2022

न्यूज़ अलर्ट
1) हिंदी दिवस का आयोजन............ गरवारे में वक्तृत्व स्पर्धा और परिचर्चा संपन्न.... 2) राज्यपाल ने जारी किया ​फिल्म '​भारत के अग्निवीर​'​ का पोस्टर .... 3) श्रीलंका के राष्ट्रपति को स्वयं और परिवार की सुरक्षा का डर, गारंटी स्वरूप सुरक्षित बाहर जाने की रखी शर्त। .... 4) मुंबई में बढ़ते कोरोना केस के बाद सड़कों पर फिर दिखेंगे क्लीन-अप मार्शल?.... 5) पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद नूपुर शर्मा की बढ़ती मुश्किलें .... 6) महाराष्ट्र में आ गई कोरोना की चौथी लहर?.... 7) गरवारे शिक्षण संस्थान-'विश्व पर्यावरण दिवस' पर वृक्षारोपण और पोस्टर प्रतियोगिता....
अन्न-देवता काव्यसंग्रह का लोकार्पण
Tuesday, November 2, 2021 4:12:53 PM - By विनय सिंह

पुस्तक विमोचन की तस्वीर
ठाणे। भारतीय जनभाषा प्रचार समिति एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद के संयुक्त तत्वाधान में शनिवार दिनांक 30 अक्टूबर 2021 को वरिष्ठ साहित्यकार भुवनेंद्र सिंह बिष्ट के 95 वें अवतरण दिवस के उपलक्ष में विशेष काव्य गोष्ठी रखी गई तथा उत्कृष्ट साहित्यकारों द्वारा किसान पर लिखित कविता संग्रह 'अन्न-देवता' का लोकार्पण किया गया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार, समाज सेवी नरेंद्र सिंह गहरवार ने की तथा‌ मुख्य अतिथि एवं सत्कार मूर्ति भुवनेन्द्र सिंह बिष्ट, विशिष्ट अतिथि के रूप में वरिष्ठ साहित्यकार, अवधी के मशहूर कवि रमाशंकर मिश्र 'राजसुमन' जी, वरिष्ठ साहित्यकार हरजिंदर सिंह शेठी, दिनेश सिंह, साहित्यकार बी.आर. चौहान, विद्यावाचस्पति विधुभूषण त्रिवेदी, रामजीत गुप्ता, दिनेश सिंह, वरिष्ठ पत्रकार नामदार राही, संतोष कुमार पांडे(पत्रकार), नागेंद्र नाथ गुप्ता, युवा कवि पवन तिवारी एवं रमेश सिंह उपस्थित थे।
सत्कार मूर्ति भुवनेंद्र सिंह बिष्ट को सभी साहित्यकारों ने मिलकर साल, श्रीफल,पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया। उपस्थित सभी साहित्यकारों का सम्मान साल श्रीफल पुष्पगुच्छ देकर किया गया तथा सभी ने अपनी अपनी रचनाओं से सभी को मंत्रमुग्ध किया। उपस्थित साहित्यकारों में ठाणे एवं मुंबई से अनिल कुमार राही, संजय द्विवेदी, एडवोकेट अनिल शर्मा, विनय शर्मा दीप, डॉ. आनंदी सिंह रावत, शिल्पा सोनटक्के, प्रभा शर्मा 'सागर', विनय सिंह 'विनम्र' (गोल्ड- मेडलिस्ट पत्रकार), शारदा प्रसाद दुबे, डॉ. वफा सुल्तानपुरी, जवाहरलाल निर्झर, के एस मिश्रा, उमेशचंद्र मिश्र 'प्रभाकर', रमाशंकर यादव, शिव शंकर मिश्रा, कल्पेश यादव, महेश गुप्ता जौनपुरी, मनोज मैकस, तिलकराज खुराना, सुभाष चतुर्वेदी, गीत-संगीतकार सुरेश काला, पंकज पाठक, उमाकांत वर्मा, सुशील शुक्ल 'नाचीज' आदि उपस्थित थे।
कार्यक्रम दो भागों में विभक्त था पहले सम्मान समारोह एवं लोकार्पण समारोह हुआ जिसका संचालन कवयित्री डॉ. प्रभा सागर शर्मा एवं रामप्यारे सिंह 'रघुवंशी' ने किया। दूसरा सत्र काव्यपाठ का रहा जिसका संचालन कवि पत्रकार विनय शर्मा 'दीप' ने की। बाद में एडवोकेट अनिल शर्मा जी ने उपस्थित सभी साहित्यकारों का बड़े ही सारगर्भित और नपे-तुले शब्दों में सभी का आभार व्यक्त किया। अंत में राष्ट्रगान के साथ काव्य-गोष्ठी का समापन किया गया।