Saturday, April 13, 2024

न्यूज़ अलर्ट
1) मल्टी टैलेंटेड स्टार : पंकज रैना .... 2) राहुल गांधी की न्याय यात्रा में शामिल होंगे अखिलेश, खरगे की तरफ से मिले निमंत्रण को स्वीकारा.... 3) 8 फरवरी को मतदान के दिन इंटरनेट सेवा निलंबित कर सकती है पाक सरकार.... 4) तरुण छाबड़ा को नोकिया इंडिया का नया प्रमुख नियुक्त किया गया.... 5) बिल गेट्स को पछाड़ जुकरबर्ग बने दुनिया के चौथे सबसे अमीर इंसान.... 6) नकदी संकट के बीच बायजू ने फुटबॉलर लियोनेल मेस्सी के साथ सस्पेंड की डील.... 7) विवादों में फंसी फाइटर, विंग कमांडर ने भेजा नोटिस....
सलीम बस्तवी अज़ीज़ी की ग़ज़ल
Thursday, September 28, 2023 - 12:17:17 AM - By सलीम बस्तवी अज़ीज़ी

 सलीम बस्तवी अज़ीज़ी की  ग़ज़ल
सलीम बस्तवी
किस क़दर इस ज़िंदगी के रास्ते दुश्वार है,
फूल से ज़्यादा हमारी ज़िंदगी में खार हैं ।

क्या कहेंगे आप इस बदले हुए हालात पर,
जो हमें बर्बाद करने पर यहां तैयार हैं ।

नफरतों की आग में झुलसा है जिनसे यह चमन,
जाके उनसे पूछिए क्या वोह कभी गमखोवार हैं ।

जो नेजाम ए हिन्द को अब कर रहे हैं तार तार,
हमको तो लगता है कि वोह ज़ेहन से बीमार हैं ।

नफसी नफसी का है आलम, सांस भी रुकने को है,
और, उसपे यह सितम कि हम यहां गद्दार हैं ।

दंग रह जायेंगी आंखें देखकर मंज़र, सलीम,
कैसे कैसे इस सियासत के यहां फनकार हैं ।