Saturday, April 13, 2024

न्यूज़ अलर्ट
1) मल्टी टैलेंटेड स्टार : पंकज रैना .... 2) राहुल गांधी की न्याय यात्रा में शामिल होंगे अखिलेश, खरगे की तरफ से मिले निमंत्रण को स्वीकारा.... 3) 8 फरवरी को मतदान के दिन इंटरनेट सेवा निलंबित कर सकती है पाक सरकार.... 4) तरुण छाबड़ा को नोकिया इंडिया का नया प्रमुख नियुक्त किया गया.... 5) बिल गेट्स को पछाड़ जुकरबर्ग बने दुनिया के चौथे सबसे अमीर इंसान.... 6) नकदी संकट के बीच बायजू ने फुटबॉलर लियोनेल मेस्सी के साथ सस्पेंड की डील.... 7) विवादों में फंसी फाइटर, विंग कमांडर ने भेजा नोटिस....
सुरेश कुमार "देवासी" की कविता : रोशनी की तलाश में
Wednesday, September 13, 2023 - 11:47:29 PM - By सुरेश कुमार देवासी

सुरेश कुमार
कवि सुरेश कुमार "देवासी"
रोशनी की तलाश में गए थे,
अंधेरो ने घेर लिया.
जब रोशनी की तरफ़ देखा,
तो उसने भी मुँह फेर लिया.
ना हम अँधियारो के रहे ना उजियारों के,
ना हम गलियों के रहे ना चौबारों के,
बहुत इठलाते थे की हम मर्द है,
बहुत कमजोर है हम,
हम से प्रबल तो ये दर्द है ,
हमें तो उस खिड़की ने भी ठुकरा दिया,
जिसको देखने का हक़ फ़क़त हमारी नज़रों का था
क़सूर का क़सूर नही था,
ना तेरी मेरी नज़रों का था,
एक खिड़की जो कभी खुला करती थी,
दोनों तरफ से नज़रें मिला करती थी.
छोटे-छोटे क़िस्सों की एक कहानी बन गयी,
हर बार की तरह एक राजा और एक रानी बन गयी.
मिलना ऐसा की पानी को मुट्ठी में क़ैद करना,
और मिलन ऐसा की हर कहानी में तुम्हारा हिस्सा होना.
एक रोशनी की तलाश में.