Sunday, December 4, 2022

न्यूज़ अलर्ट
1) हिंदी दिवस का आयोजन............ गरवारे में वक्तृत्व स्पर्धा और परिचर्चा संपन्न.... 2) राज्यपाल ने जारी किया ​फिल्म '​भारत के अग्निवीर​'​ का पोस्टर .... 3) श्रीलंका के राष्ट्रपति को स्वयं और परिवार की सुरक्षा का डर, गारंटी स्वरूप सुरक्षित बाहर जाने की रखी शर्त। .... 4) मुंबई में बढ़ते कोरोना केस के बाद सड़कों पर फिर दिखेंगे क्लीन-अप मार्शल?.... 5) पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद नूपुर शर्मा की बढ़ती मुश्किलें .... 6) महाराष्ट्र में आ गई कोरोना की चौथी लहर?.... 7) गरवारे शिक्षण संस्थान-'विश्व पर्यावरण दिवस' पर वृक्षारोपण और पोस्टर प्रतियोगिता....
श्रीलंका के राष्ट्रपति को स्वयं और परिवार की सुरक्षा का डर, गारंटी स्वरूप सुरक्षित बाहर जाने की रखी शर्त।
Wednesday, July 13, 2022 - 12:50:26 AM - By पायल शुक्ला

श्रीलंका के राष्ट्रपति को स्वयं और परिवार की सुरक्षा का डर, गारंटी स्वरूप सुरक्षित बाहर जाने की रखी शर्त।
राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री महिंद्रा राजपक्षे के मध्य वार्तालाप।
श्रीलंका में समस्या थमने का नाम नहीं ले रही है। बढ़ती महंगाई से आम जनता परेशान है वही दूसरी तरफ राजपक्षे परिवार को लेकर आक्रोशित जनता राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग कर रही है। इसी घटनक्रम से जुड़ी खबर आ रही है कि राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने इस्तीफा देना स्वीकार कर लिया परंतु उसके पहले उनकी शर्त है। शर्त के अनुसार उन्होंने परिवार समेत खुद के लिए सुरक्षा मांगी है। उनका कहना है कि वो परिवार समेत देश से बाहर जाना चाहते हैं। बता दें कि १३ जुलाई को गोटबाया ने इस्तीफा देने का ऐलान किया था। परंतु अब गोटबाया की इस शर्त से माहौल पुनः गरमा गया है। खबर यह भी है कि सोमवार को गोटबाया ने इस्तीफे पर दस्तखत कर दिए है। उम्मीद है कि कल स्पीकर इसका ऐलान कर सकते है।
खतरे को देखते हुए कल बीती रात राजपक्षे के भाई और पूर्व वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर इमीग्रेशन स्टाफ और एयरपोर्ट कर्मचारियों ने विरोध करते हुए उन्हें देश छोड़ने से रोक लिया। जिसके फलस्वरूप बासिल को वापस लौटना पड़ा था। कुछ समय पहले ही बासिल ने अपने वित्त मंत्री पद से इस्तीफा दिया था। लोगों को पहले ही आशंका थी कि राजपक्षे परिवार जल्दी ही देश छोड़कर भागने की तैयारी में है।
इसी परिस्थिति को देखते हुए गोटबाया राजपक्षे ने लोगों के समक्ष शर्त रखी। अगर बुधवार को राष्ट्रपति ने इस्तीफा नहीं दिया तो कोलंबो में हालात और बेकाबू हो जाएंगे। राजपक्षे ने अपनी शर्त रख दी और इस बात को लेकर विपक्ष में बातचीत भी चल रही है। लेकिन अभी तक कोई भी दल इस सुझाव पर अपनी प्रतिक्रिया देने को तैयार नहीं है। तो वही दूसरी तरफ बुधवार को राष्ट्रपति इस्तीफा देंगे या नहीं इस पर भी संभावित प्रतिक्रिया सही रूप में नहीं मिल रही है। फिलहाल ये तो कल ही पता चलेगा कि राष्ट्रपति इस्तीफा देंगे या श्रीलंका में माहौल और बिगड़ेगा।