Sunday, June 26, 2022

न्यूज़ अलर्ट
1) मुंबई में बढ़ते कोरोना केस के बाद सड़कों पर फिर दिखेंगे क्लीन-अप मार्शल?.... 2) पैगंबर साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद नूपुर शर्मा की बढ़ती मुश्किलें .... 3) महाराष्ट्र में आ गई कोरोना की चौथी लहर?.... 4) गरवारे शिक्षण संस्थान-'विश्व पर्यावरण दिवस' पर वृक्षारोपण और पोस्टर प्रतियोगिता.... 5) जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों का खूनी खेल। .... 6) “लीलावती हॉस्पिटल में एडमिट एमएनएस अध्यक्ष राज ठाकरे दूसरी बार हुए कोरोना पॉजिटिव, टाली गई सर्जरी”.... 7) "पंजाबी गायक सिद्धू मूसे वाला की गोली लगने से मौत" ....
“आईएनएस विक्रांत चंदा केस में किरीट सोमैया को बड़ा झटका” / पायल शुक्ला
Tuesday, April 12, 2022 - 2:08:14 PM - By पायल शुक्ला

“आईएनएस विक्रांत चंदा केस में किरीट सोमैया को बड़ा झटका” / पायल शुक्ला
मुंबई सेशंस कोर्ट ने किरीट सोमैया की अग्रिम जमानत याचिका को किया खारिज।
बीजेपी नेता किरीट सोमैया और उनके बेटे नील सोमैया को आईएनएस विक्रांत केस में बड़ा झटका लगा है। उनकी वकील पावनी चढ्डा ने बताया कि सोमवार को मुंबई सेशंस कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत की याचिका को खारिज कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, किरीट सोमैया मुंबई से बाहर हैं और वे एंटीसिपेट्री बेल के लिए हाईकोर्ट का रुख करेंगे। हालांकि, नील सोमैया की गिरफ्तारी के पूर्व जमानत अर्जी पर मंगलवार को फैसला आएगा।
इस मामले की सुनवाई के दौरान सोमैया की ओर से कहा गया कि इंडियन नेवल शीप (आईएनएस) विक्रांत के नाम पर ११ हजार २२५ रुपए चंदे के तौर पर जमा किए गए थे और वो पैसे राजभवन में जमा किए गए हैं, हालांकि, कोर्ट ने यह दलील स्वीकार नहीं की और अदालत ने कहा कि मामले की ठीक तरह से जांच जरूरी है। सरकारी वकील प्रदीप घरत ने अदालत के फैसले के बाद कहा कि किरीट सोमैया ने अपने आप को बचाने का भरसक प्रयास किया, लेकिन वे यह साबित नहीं कर सके कि आईएनएस विक्रांत को स्क्रैप में जाने से बचाने के लिए उन्होंने जो पैसे जमा किए थे, उसका क्या इस्तेमाल हुआ। उन्होंने कहा कि लोगों ने देशभक्ति के नाम पर चंदे दिए थे, लेकिन वे पैसे पार्टी फंड में जमा किए गए।
ट्राम्बे पुलिस स्टेशन में किरीट सोमैया के खिलाफ सेव विक्रांत मुहिम के नाम पर जुटाए गए पैसे के घोटाले के आरोप की जांच शुरू की गई है। सोमैया ने सेव विक्रांत के नाम पर ५७ करोड़ से ज्यादा फंड जमा किया, जिसका कोई हिसाब नहीं है। फिलहाल इस मामले की जांच राज्य की आर्थिक गुनाह शाखा कर रही है।