Tuesday, April 7, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) अपने ही बने अपनों की जान के दुश्मन.... 2) लॉकडाउन तोड़ने के लिए कहने वाला शख्स गिरफ्तार .... 3) कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज को लेने आए कर्मचारी की बड़ी लापरवाही .... 4) भाजपा आमदार पराग अळवणी यांच्या प्रयत्नातून विले पार्ले मतादारसंघात परिसर निर्जंतुकीकरण कामास प्रारंभ.... 5) अगले 20 दिनों तक 5 करोड़ लोगों को भोजन उपलब्ध करवाएगी भाजपा .... 6) नगरसेवक जगदीश अन्ना का कोरोना संक्रमण के खिलाफ सराहनीय प्रयास .... 7) कोरोना वायरस का भविष्य तय करेगा भारत - विश्व स्वास्थ्य संगठन ....
इबादत पर इनायत कब होगी....? / सैयद सलमान
Friday, February 7, 2020 10:17:06 AM - By सैयद सलमान

सैयद सलमान
​साभार- दोपहर का सामना 07 02 2020

​क्या मुस्लिम महिलाओं को मस्जिद में नमा​ज़​ पढ़ने की अनुमति है? क्या मुस्लिम महिलाएं मस्जिदों में आ-जा सकती हैं? क्या महिलाओं का पुरुषों के साथ मस्जिद में जाना जाय​ज़​ है?​ ​ये कुछ सवाल हैं जो मुस्लिम समाज के भीतर भी पूछे जाते हैं और ​ग़ैर​-मुस्लिमों की भी जिज्ञासा इस सवाल का जवाब जानने की है। सवाल है भी वाजिब। लेकिन अब यह सवाल केवल मुस्लिम समाज के भीतर का न होकर सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुँच चुका है। महिलाओं के मस्जिद में प्रवेश को लेकर पुणे के एक मुस्लिम दंपति ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर मांग की थी कि मुस्लिम महिलाओं को नमा​ज़​ पढ़ने की अनुमित होनी चाहिए। इस याचिका पर सुनवाई के दौरान अलग-अलग पक्षों की तरफ से अलग-अलग दलीलें दी गईं। इन तमाम दलीलों के बीच सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने यहाँ तक पूछ लिया कि, क्या इस मसले पर अनुच्छेद १४ का इस्तेमाल किया जा सकता है? क्या मस्जिद और मंदिर सरकार के हैं? ​बिल्कुल उसी तरह जैसे आपके घर में कोई आना चाहे तो आपकी इजा​ज़​त ​ज़​रूरी है। कोर्ट ने इस मामले में सरकार का पक्ष भी जानना चाहा। याचिकाकर्ता ने अपनी अपील में सु्प्रीम कोर्ट को बताया है कि ​भारत में मस्जिदों के अंदर महिलाओं को नमा​ज़​ पढ़ने की इजाजत न होना न सिर्फ अवैध है, बल्कि संविधान की मूल आत्मा का भी उल्लंघन है।

मुस्लिम समाज में अलग-अलग ​फ़िरक़ों में इस संबंध में अलग-अलग राय है। ​ख़ासकर भारतीय उपमहाद्वीप में इस विषय पर अधिकांश ​फ़िरक़ों के मुताबि​क़​ मस्जिदों में महिलाओं का प्रवेश वर्जित है। जबकि, बोहरा और अहले हदीस जैसे चंद समूह इसकी इजा​ज़​त देते हैं। शरई न​ज़​रिये से क्या सही और क्या ​ग़​लत है, अगर इस बहस में न भी पड़ा जाए तो मुस्लिम समाज की सर्वमान्य और बड़ी संस्था ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) का सुप्रीम कोर्ट में दिया गया हल​फ़​नामा ​काफ़ी मायने रखता है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने उच्चतम न्यायालय में कहा है कि, मुस्लिम महिलाओं को पुरुषों की तरह ही नमा​ज़​ के लिए मस्जिदों में प्रवेश की अनुमति होती है। यास्मीन ​ज़ु​बेर अहमद पीर​ज़ा​दा की जनहित याचिका पर एआईएमपीएलबी का यह जवाब आया है। इस जनहित याचिका में मस्जिदों में मुस्लिम महिलाओं का प्रवेश सुनिश्चित करने के लिए न्यायिक हस्तक्षेप की मांग की गई थी। इस पर प्रधान न्यायाधीश एस. ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली नौ सदस्यीय संविधान पीठ विचार कर रही है। यही पीठ अनेक धर्मों में और केरल के सबरीमला मंदिर समेत धर्मस्थलों पर महिलाओं के साथ भेदभाव से संबंधित कानूनी और संवैधानिक मुद्दों पर विचार कर रही है। एआईएमपीएलबी ने अपने हल​फ़​नामे में कहा है कि 'धार्मिक पाठों, शिक्षाओं और इस्लाम के अनुयायियों की धार्मिक आस्थाओं पर विचार करते हुए यह बात कही जा रही है कि मस्जिद के भीतर नमा​ज़​ अदा करने के लिए महिलाओं के मस्जिद में प्रवेश की अनुमति है। अत: कोई मुस्लिम महिला नमा​ज़​ के लिए मस्जिद में प्रवेश के लिए स्वतंत्र है। उसके पास मस्जिद में नमा​ज़​ के लिए उपलब्ध इस तरह की सुविधाओं का लाभ उठाने के उसके अधिकार का उपयोग करने का विकल्प भी है।' इस हल​फ़​नामे में यह भी कहा गया है कि, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस संबंध में किसी विरोधाभासी धार्मिक विचार पर टिप्पणी नहीं करना चाहता। समाज एक तर​फ़​ तो महिलाओं को बराबरी देने की बात करता है तो दूसरी तर​फ़​ उन पर पाबंदियां भी लगाता है। यह दोमुंहापन महिलाओं को रास नहीं आ रहा। शनि शिग​णा​पुर मंदिर, अय्यप्पा मंदिर, हाजी अली दरगाह जैसे धार्मिक स्थलों पर महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी के ​ख़िलाफ़ हिंदू-मुस्लिम महिलाओं ने एक तरह से आंदोलन छेड़ रखा था। शीर्ष अदालत मस्जिदों में मुस्लिम महिलाओं के प्रवेश, दाऊदी बोहरा मुस्लिम समुदाय में महिलाओं का ​ख़​तना आदि से संबंधित प्रश्नों पर सुनवाई कर रही है। लेकिन एआईएमपीएलबी की अब भी यही दलील है कि धार्मिक आस्थाओं पर आधारित प्रथाओं के सवालों पर विचार करना शीर्ष अदालत के लिए उचित नहीं है।

अगर बारीकी से इस्लाम की किताबों का मुतालआ किया जाए तो यह बात लगभग शीशे की तरह साफ़ है कि इस्लाम में मुस्लिम महिलाओं के लिए जमात के साथ नमा​ज़​ पढ़ना ना तो अनिवार्य है और ना ही जमात के साथ जुमे की नमा​ज़​ में शामिल होना उनके लिए ​ज़​रूरी है। जबकि पुरुषों के मामले में ऐसा नहीं है। मुस्लिम पुरुषों के लिए जमात के साथ नमा​ज़​ पढ़ना और जुमे की नमा​ज़​ में शामिल होना अनिवार्य है। एआईएमपीएलबी के हल​फ़​नामे में भी स्पष्ट किया गया है कि मुस्लिम महिलाओं को इस्लाम में विशेष स्थान दिया गया है। इस्लाम की शिक्षाओं के अनुसार उन्हें मस्जिद या घर पर जहां चाहें वहां नमा​ज़​ पढ़ने पर उतना ही धार्मिक सवाब अथवा मिलेगा जितने पुरुषों को। एक बात ​ग़ौर करने की है कि भले ही ​हिंदुस्तान सहित भारतीय उपमहाद्वीप के अन्य देशों में महिलाओं पर मस्जिदों में जाने पर प्रतिबंध हो लेकिन मुसलमानों के सबसे पवित्र धर्मस्थल काबा शरी​फ़​ में ऐसा नहीं है। काबा शरी​फ़​ में मुस्लिम महिलाओं पर किसी तरह की कोई रोक या कोई ​फ़​रमान नहीं सुनाया गया है कि वो मस्जिदो में जाकर नमाज़ न अदा कर सकें। हमारे यहाँ मुस्लिम महिलाओं द्वारा आस्था की बुनियाद पर पुरुषों संग नमाज़ और मस्जिदो में अल्लाह की इबादत करने की मांग वर्षों से की जाती रही है। मुस्लिम महिलाओं की तर​फ़​ से मुस्लिम उलेमा से यहाँ तक सवाल किया गया है कि ​क़ुरआन की कोई एक ऐसी आयत बताएं जिसमें मुस्लिम महिलाओं को नमाज़ अदा करने से रोकने की बात कही गई हो। पवित्र ​क़ुरआन में सूरह अल-अह​ज़ा​ब की एक आयत में तो पुरुष और स्त्रियों को एक न​ज़​र से देखने का उदहारण मिलता है। ​क़ुरआन कहता है, "ईमानवाले पुरुष और ईमानवाली स्त्रियाँ, ​निष्ठापूर्वक आज्ञापालन करनेवाले पुरुष और निष्ठापूर्वक आज्ञापालन करनेवाली स्त्रियाँ, सत्यवादी पुरुष और सत्यवादी स्त्रियाँ, धैर्यवान पुरुष और धैर्य रखने​ ​वाली स्त्रियाँ, विनम्रता दिखाने​ ​वाले पुरुष और विनम्रता दिखाने​ ​वाली स्त्रियाँ, सदक़ा (दान) देने​ ​वाले पुरुष और सदक़ा देने​ ​वाली स्त्रियाँ, रोज़ा रखने​ ​वाले पुरुष और रोज़ा रखने​ ​वाली स्त्रियाँ, अपने गुप्तांगों की रक्षा करने​ ​वाले पुरुष और रक्षा करने​ ​वाली स्त्रियाँ और अल्लाह को अधिक याद करने​ ​वाले पुरुष और याद करने​ ​वाली स्त्रियाँ - इनके लिए अल्लाह ने क्षमा और बड़ा प्रतिदान तैयार कर रखा है।" -(अल-​क़ुरआन ३३:३५)

इस्लाम ने अपने अनुयायियों के लिए जो पांच चीज़ें शरई या मज़हबी तौर पर फ़र्ज़ की हैं वो हैं, शहादत यानि ख़ुदा के एक होने पर ​यक़ीन, नमा​ज़​, रो​ज़ा, ​ज़​कात और हज। इनमें स्त्री-पुरुष की बुनियाद पर न तो कोई रियायत है, न कोई भेद। तो सवाल यह है कि अगर मर्द अपना मज़हबी ​फ़र्ज़ अदा करने के लिए मस्जिद में नमा​ज़​ पढ़ने जा सकते हैं तो महिलाएँ क्यों नहीं? मुसलमान हदीसों को अधिक महत्व देते हैं। उम्मुल मोमिनीन ह​ज़​रत आयशा के हवाले से एक हदीस का म​फ़​हूम है कि, पै​ग़​म्बर मोहम्मद साहब महिलाओं को मस्जिद में आने का बढ़ावा देते थे। उनका ख़ास ख़याल रखते थे। उनकी परेशानियों के बारे में बेहद संवेदनशील थे। एक हदीस में ऐसा भी ज़िक्र है कि, पै​ग़​म्बर मोहम्मद साहब ने फ़रमाया कि, 'मैं नमाज़ शुरू करता हूँ और इसको लंबी पढ़ना चाहता हूँ, लेकिन किसी बच्चे के रोने की आवाज़ सुनता हूँ तो नमाज़ मुख़्तसर कर देता हूँ यानि छोटी कर देता हूँ।' हज़रत उम्म सलमा से रवायत है कि, पै​ग़​म्बर मोहम्मद साहब मस्जिद में थोड़ी देर रुके रहते थे ताकि महिलाएँ मस्जिद से इत्मीनान से बाहर निकल जाएं। इन वा​क़​यात से एक बात तो साफ़ है कि मोहम्मद साहब के दौर में महिलाएँ मस्जिद में नमा​ज़​ पढ़ती थीं। यही नहीं, महिलाएँ भी नमाज़ पढ़ाती थीं। हाँ, नमा​ज़​ पढ़ने और पढ़ाने की उनकी जगह अलग होती थी। इस्लाम के शुरुआती दौर और हज़रत मोहम्मद के दौर में ऐसा कुछ नहीं मिलता है, जो महिलाओं को मस्जिद में जाने, इबादत करने, इकट्ठे जमात में नमा​ज़​ पढ़ने के ख़िलाफ़ हो। इस बात का एहतेमाम अब भी किया जा सकता है। लेकिन पाश्चात्य संस्कृति के अंधानुकरण में शामिल मुस्लिम महिलाओं को लेकर क्या आज का मुस्लिम समाज यह जोखिम उठाने को तैयार होगा? मूल सवाल यही है, ​बाक़ी मुस्लिम महिलाओं को इस्लाम ने कहीं से कहीं पुरुषों के मु​क़ा​बले कमतर नहीं आँका है। सुप्रीम कोर्ट के ​फ़ैसले पर इसीलिए आम मुसलमानों की भी न​ज़​र है। शायद सुप्रीम कोर्ट के ​फ़ैसले के बाद मुस्लिम समाज की मनःस्थिति साफ़ हो। लेकिन इतना तो तय है कि कोर्ट के ​फ़ैसले के बाद मुस्लिम महिलाओं को मुस्लिम पुरुष प्रधान समाज के असल रूप से ​वाक़फ़ियत हो जाएगी।