Friday, July 10, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) जियो ने लॉन्च किया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप 'जियो मीट '.... 2) बीएमसी की लापरवाही से जा रही स्वास्थ्यकर्मियों की जान.... 3) मुंबई में सेवानिवृत्ति समारोह संपन्न.... 4) चीन ने की बड़ी हिमाकत , भारत दे रहा उसका जवाब.... 5) अपर्याप्त संख्याबल के कारण सहार पुलिस स्टेशन में लगभग 1870 प्रवासी मजदूरों के आवेदन पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं- विधायक पराग अलवनी.... 6) गृह मंत्रालय ने दी बड़ी छूट, घर जा सकेंगे प्रवासी मजदूर.... 7) ग्रह मंत्रालय ने दी बड़ी छूट, घर जा सकेंगे प्रवासी मजदूर....
हार स्‍वीकारते हुए रघुवर दास ने मुख्‍यमंत्री पद से दिया इस्‍तीफा
Tuesday, December 24, 2019 1:08:56 AM - By न्यूज डेस्क

रघुवर दास इस्तीफा देते हुए
मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद राज्‍यपाल द्रौपदी मुर्मू को इस्‍तीफा सौंप दिया. चुनाव परिणाम की बात करें तो भाजपा यहां 25 सीटों पर सिमट गयी है और महागठबंधन के पास बहुमत का आंकड़ा है. झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्‍ट्रीय जनता दल महागठबंधन में एक साथ चुनाव लड़ रहे थे.

रघुवर ने राज्य की जनता का धन्यवाद दिया और कहा कि वह जनता के आदेश को सहर्ष स्वीकार करते हैं लेकिन उन्होंने इस हार को पार्टी की नहीं बल्कि अपनी व्यक्तिगत हार बतायी. इससे पूर्व दास ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मेरी व्यक्तिगत हार है. यह भाजपा की हार नहीं है.'



उन्होंने चुनाव के परिणामों और रुझानों पर कहा, ‘लगता है कि भाजपा विरोधी सभी मतों का ध्रुवीकरण हो गया और उनके एकजुट हो जाने से ही हमें हार का सामना करना पड़ा है.' अपनी हार के बारे में पूछे जाने पर दास ने कहा, ‘हमारी विधानसभा में अभी आधी ही गणना हुई है और मुझे अभी भी उम्मीद है कि मैं जीतूंगा.'



एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘लोकतंत्र में जनता का आदेश शिरोधार्य होता है. अतः जो भी जनादेश मिलेगा उसका हम सहर्ष स्वागत करेंगे.' उन्होंने कहा कि पूरा परिणाम आने के बाद ही वह मीडिया से विस्तार से बातचीत करेंगे. इस बीच उन्हें चुनौती देने वाले उन्हीं के मंत्रिमंडल के सहयोगी सरयू राय ने दो टूक कहा कि अब रघुवर दास न तो जीतने वाले हैं और न ही मुख्यमंत्री बनने वाले हैं.



उन्होंने कहा कि उनका टिकट कटवा कर उन्होंने जिस तरह उनके स्वाभिमान को चोट पहुंचायी है, उसी के चलते उन्होंने मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने की ठानी थी.