Thursday, February 27, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) बीमार पिता से नकार पाकिस्तान का करती जय जयकार.... 2) असम संस्कृति की रक्षा करना सरकार का दायित्व.... 3) गरवारे शिक्षण संस्थान में मनाया गया वसंतोत्सव.... 4) आम नागरिक की मांग निजीकरण करो सरकार .... 5) मनसे के आंदोलन से घबराकर उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक.... 6) 'मीडिया में विज्ञापन की भूमिका' पर संचार-संवाद का आयोजन.... 7) राष्ट्रीय स्तर पर NRC लाने का अभी तक नहीं हुआ कोई निर्णय - नित्यानंद राय ....
'बलिदान दिवस' पर याद किये गये काकोरी कांड के शहीद
Friday, December 20, 2019 1:04:19 PM - By कार्यालय संवाददाता

काकोरी कांड के शहीदों को श्रद्धांजलि देते सैयद सलमान, अनिल गलगली व अन्य
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान क्रांतिकारी शहीद-ए-वतन अशफ़ाक़ुल्लाह खान, पंडित रामप्रसाद बिस्मिल, रोशन सिंह और राजेंद्रनाथ लाहिड़ी के 'बलिदान दिवस' पर'शहीदों की याद में' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। शहीद-ए-वतन बिस्मिल अशफ़ाक़ फ़ाउंडेशन (रजि) और श्री घनश्यामदास पोद्दार विद्यालय के भूतपूर्व विद्यार्थियों के समूह 'क्रेज़ी पोद्दार किड्स' के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित इस कार्यक्रम में काकोरी कांड के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। गौरतलब है कि  शहीद अशफ़ाक़उल्लाह ख़ान, पंडित रामप्रसाद बिस्मिल और रोशन सिंह  को 19 दिसंबर 1927 को फांसी दी गई थी। इन तीनों के एक और साथी राजेंद्रनाथ लाहिड़ी को भी 19 दिसंबर को ही फांसी दी जानी थी लेकिन उन्हें 17 दिसंबर को ही फांसी दे दी गई थी।

वरिष्ठ पत्रकार और संस्था के अध्यक्ष सैयद सलमान ने इस अवसर पर बिस्मिल-अशफ़ाक़ की मित्रता, स्वतंत्रता संग्राम में उनकी भूमिका, एक दूसरे के प्रति उनके प्रगाढ़ रिश्तों पर अपने विचार रखते हुए शहीद अशफ़ाक़और पंडित बिस्मिल को निर्विवाद रूप से हिंदू-मुस्लिम एकता का अनुपम उदहारण बताया। उन्होंने बिस्मिल-अशफ़ाक़ को आदर्श मानकर राष्ट्रनिर्माण में युवाओं को आगे आने का आह्वान किया। कार्यक्रम केे मुख्य अतिथि अनिल गलगली ने आज़ादी की लड़ाई में अपनी जान न्यौछावर करने वाले शहीदों के राष्ट्रीय एकात्मता और सद्भाव के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने की ज़रुरत पर ज़ोर दिया। वरिष्ठ पत्रकार जयप्रकाश सिंह ने सामाजिक सौहार्द कायम रखने और उसके लिए संघर्षरत रहने की युवा वर्ग से अपील की। 

कार्यक्रम में अरुण मिश्रा, नूर अहमद खान, सैयद इरफ़ान, इंद्रेश दुबे, इमरान ज़ाहिद खान, अमित सकपाल, प्रवीण जैन और पंकज सोनी ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन पत्रकार जितेंद्र यादव ने किया और आभार प्रदर्शन निखिल हरपुड़े ने व्यक्त किया।