Friday, August 7, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) कोरोना से रक्षा नहीं कर सकता एन - 95 मास्क.... 2) जियो ने लॉन्च किया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप 'जियो मीट '.... 3) बीएमसी की लापरवाही से जा रही स्वास्थ्यकर्मियों की जान.... 4) मुंबई में सेवानिवृत्ति समारोह संपन्न.... 5) चीन ने की बड़ी हिमाकत , भारत दे रहा उसका जवाब.... 6) अपर्याप्त संख्याबल के कारण सहार पुलिस स्टेशन में लगभग 1870 प्रवासी मजदूरों के आवेदन पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं- विधायक पराग अलवनी.... 7) गृह मंत्रालय ने दी बड़ी छूट, घर जा सकेंगे प्रवासी मजदूर....
झारखंडः सभी दलों की मांग एक चरण में हो चुनाव, अकेली बीजेपी चाहती है 5 चरण में मतदान, अब चुनाव आयोग लेगा फैसला
Friday, October 18, 2019 12:43:36 AM - By आईएएनएस

चुनाव आयोग
चुनावी तैयारियों का जायजा लेने पहुंची चुनाव आयोग की टीम शुक्रवार को राज्य के सभी 24 जिलों के निर्वाचन अधिकारियों, डीजीपी, मुख्य सचिव, उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों से मिलेगी। चुनाव आयोग की ओर से जल्द ही राज्य में चुनाव तारीखों की घोषणा होने की संभावना है।
झारखंड में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को छोड़कर अन्य राजनीतिक दलों ने राज्य में विधानसभा चुनाव एक ही चरण में कराने की मांग की है। गुरुवार को राज्य के दौरे पर रांची पहुंची चुनाव आयोग (ईसी) की टीम ने प्रदेश के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं से मुलाकात की। इस मुलाकात में जहां सभी विपक्षी दलों ने एक साथ चुनाव कराने की मांग की है, वहीं बीजेपी ने 5 चरण में चुनाव कराने पर जोर दिया है।

प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक प्रकाश के नेतृत्व में बीजेपी प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग की टीम से मुलाकात के दौरान मांग रखा कि मतदान पांच चरणों में आयोजित किए जाने चाहिए और दो मतदान केंद्रों के बीच की दूरी 2 किमी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी ने प्रदेश में बांग्लादेशी घुसपैठियों पर कड़ी निगरानी की भी मांग की है।

इस बीच, कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा (जएमएम), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) और अन्य दलों ने एक चरण में विधानसभा चुनाव कराने की मांग को अपना समर्थन दिया। जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने इस बारे में बताया, "हमने मांग की है कि विधानसभा चुनाव एक ही चरण में होने चाहिए, जैसे कि महाराष्ट्र जैसे बड़े राज्य में हो रहे हैं।"

जेएमएम नेता ने कहा कि बैठक के दौरान उन्होंने चुनाव आयोग की टीम के संज्ञान में इस बात को भी लाए हैं कि प्रदेश के कुछ सरकारी अधिकारी बीजेपी के एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं और उनके सोशल मीडिया पोस्ट सत्ताधारी पार्टी का पक्ष ले रहे हैं। कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में शामिल पार्टी नेता आलोक दुबे ने बताया, "हमने राज्य सरकार द्वारा जिला प्रशासन के दुरुपयोग का मुद्दा उठाया और एकल चरण के चुनाव की मांग की।" इसके अलावा सीपीआई ने मांग रखी कि मतदान बैलेट पेपर के माध्यम से आयोजित कराया जाना चाहिए।

राज्य में चुनावी तैयारियों का जायजा लेने पहुंची चुनाव आयोग की टीम शुक्रवार को राज्य के सभी 24 जिलों के राज्य निर्वाचन अधिकारियों, डीजीपी, मुख्य सचिव, उपायुक्तों और पुलिस अधीक्षकों से मिलने वाली है। चुनाव आयोग की ओर से जल्द ही राज्य में चुनाव की तारीखों की घोषणा करने की संभावना है। राज्य की वर्तमान विधानसभा का कार्यकाल 5 जनवरी को समाप्त होगा। ऐसे में दिसंबर तक नई विधानसभा के गठन की पूरी प्रक्रिया हर हाल में पूरी करनी होगी।