Thursday, February 27, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) बीमार पिता से नकार पाकिस्तान का करती जय जयकार.... 2) असम संस्कृति की रक्षा करना सरकार का दायित्व.... 3) गरवारे शिक्षण संस्थान में मनाया गया वसंतोत्सव.... 4) आम नागरिक की मांग निजीकरण करो सरकार .... 5) मनसे के आंदोलन से घबराकर उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक.... 6) 'मीडिया में विज्ञापन की भूमिका' पर संचार-संवाद का आयोजन.... 7) राष्ट्रीय स्तर पर NRC लाने का अभी तक नहीं हुआ कोई निर्णय - नित्यानंद राय ....
सरकारी बैंकों को धोखाधड़ी से 31 हजार करोड़ की चपत लगी
Sunday, September 8, 2019 6:19:49 PM - By बिजनेस डेस्क

सांकेतिक चित्र
सार्वजनिक क्षेत्र के 18 बैंकों को पहली तिमाही (अप्रैल से जून) में धोखाधड़ी से 31 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की लगी चपत लगी है। सूचना के अधिकार (आरटीआई) से यह खुलासा हुआ है।
आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार, मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के 18 बैंकों में कुल 31,898.63 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 2,480 मामले सामने आये हैं। देश का शीर्ष बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) इस अवधि में धोखाधड़ी का सबसे बड़ा शिकार बना, क्योंकि इसमें से करीब 38 प्रतिशत धनराशि से जुड़े मामले केवल इसी बैंक की ओर से जाहिर किए गए हैं। मध्य प्रदेश के नीमच निवासी आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने बताया कि रिजर्व बैंक (आरबीआई) के एक अधिकारी ने उन्हें यह जानकारी दी है। आरटीआई के तहत गौड़ को भेजे गये जवाब से पता चलता है कि 30 जून को समाप्त पहली तिमाही में एसबीआई में धोखाधड़ी के 1,197 मामलों का पता चला जो कुल 12,012.77 करोड़ रुपये की राशि से संबंधित थे। इस अवधि के दौरान बैंकिंग छल की जद में आई सर्वाधिक धनराशि के पैमाने पर इलाहाबाद बैंक दूसरे स्थान पर रहा। इलाहाबाद बैंक में कुल 2,855.46 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 381 मामले सामने आये। पंजाब नेशनल बैंक कुल 2,526.55 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 99 मामलों के साथ इस सूची में तीसरे पायदान पर रहा।