Wednesday, December 19, 2018

न्यूज़ अलर्ट
1) गाँधी जयंती पर 'मारवा' का स्वच्छता अभियान.... 2) मुंबई विद्यापीठ से संबद्ध कॉलेजों में 29 सितम्बर तक प्रवेश.... 3) मुंबई और आसपास के इलाकों में ठंडी हवा के साथ बारिश.... 4) राफेल डील पर एनसीपी बैकफुट पर- सफाई, देते हुए कहा शरद पवार ने मोदी को नहीं दी क्लीन चिट.... 5) सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ- पराक्रम पर्व का पीएम ने किया उद्घाटन.... 6) पेट्रोल डीजल की कीमतों में फिर बड़ी बढ़ोतरी.... 7) सार्क मीटिंग में सुषमा स्वराज ने किया नजरअंदाज तो भड़का पाकिस्‍तान, जताई नाराजगी....
सीदी सैयद मस्जिद दौरे को लेकर मोदी पर भड़की हिंदू महासभा- मोदी के क़दम को बताया हिंदू विरोधी
Friday, September 15, 2017 1:17:44 PM - By एजेंसी

अहमदाबाद की सीदी सैयद मस्जिद में पीएम मोदी और जापानी पीएम शिंजो आबे
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे दो दिनों के दौरे पर जब बुधवार को भारत पहुंचे थे तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की थी. दोनों नेताओं ने रोड शो भी किया. मोदी ने जापानी पीएम को साबरमती आश्रम दिखाया और चरखा और बापू की आत्मकथा भेंट की. जापानी पीएम को गार्ड ऑफ अॉनर भी दिया गया. यह देश के इतिहास में पहला मौका था जब दो देशों के प्रधानमंत्री ने खुली जीप में रोड शो किया. इस दौरान 56 कैमरों से पीएम मोदी और आबे के रोड रोड शो की निगरानी की गई.

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी और शिंजो आबे 16वीं की प्रसिद्ध सीदी सैयद मस्जिद पहुंचे. खास बात यह है कि पीएम बनने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मस्जिद में गए है. इस दौरान पीएम मोदी ने गाइड के रूप में शिंजो आबे को मस्जिद की ऐतिहासिक विरासत से रूबरू कराया. प्रधानमंत्री के इस कदम से अखिल भारतीय हिंदू महासभा भड़क गई है. नरेंद्र मोदी और शिंजो आबे के सीदी सैय्यद मस्जिद दौरे पर अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने सख्त नाराजगी जताई है. महासभा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कदम को भारतीय संस्कृति के खिलाफ करार दिया है और कहा है कि 125 करोड़ हिंदू इसे माफ नहीं करेंगे. भारतीय प्रधानमंत्री के इस कदम से हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंची है.

महासभा का मानना है कि भारत हिंदू राष्ट्र है. हिंदू राष्ट्र के रूप में भारत की पहचान है. शिव, राम और कृष्ण हमारी संस्कृति के प्रतीक हैं. महासभा के अनुसार जापानी प्रधानमंत्री को सीदी सैय्यद मस्जिद की जगह सोमनाथ मंदिर, द्वारका एवं ज्योतिर्लिंग का दर्शन कराना चाहिए था. लेकिन, ऐसा न करके भारतीय प्रधानमंत्री ने हिंदू विरोधी और भारतीय विरोधी और भारतीय संस्कृति का विरोध करने का काम किया है.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात विधानसभा चुनाव को देखते हुए यह कदम उठाया है. प्रधानमंत्री का यह कदम अल्पसंख्यक तुष्टीकरण का एक हिस्सा है. हिंदू महासभा नेता ने कहा कि अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के कारण ही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की दुर्गति हुई है. महासभा मानती है कि अगर ऐसे ही तुष्टिकरण बीजेपी सरकार भी करती रहेगी तो बीजेपी को मिटने में और कम समय लगेगा.