Thursday, February 27, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) बीमार पिता से नकार पाकिस्तान का करती जय जयकार.... 2) असम संस्कृति की रक्षा करना सरकार का दायित्व.... 3) गरवारे शिक्षण संस्थान में मनाया गया वसंतोत्सव.... 4) आम नागरिक की मांग निजीकरण करो सरकार .... 5) मनसे के आंदोलन से घबराकर उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक.... 6) 'मीडिया में विज्ञापन की भूमिका' पर संचार-संवाद का आयोजन.... 7) राष्ट्रीय स्तर पर NRC लाने का अभी तक नहीं हुआ कोई निर्णय - नित्यानंद राय ....
ऑटो इंडस्ट्री की बुरी हालत पर निर्मला का तर्क, बोली- ओला उबर है कारण
Tuesday, September 10, 2019 - 10:20:26 PM - By न्यूज डेस्क

वित्त मंत्री
देश में आर्थिक मंदी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सफाई देते हुए कहा कि ऑटोमोबाइल उद्योग बीएस-6 वाहन के आगमन के साथ ही ग्राहकों द्वारा अपनी खुद की गाड़ी से ज्यादा ओला-उबर से सफर को प्राथमिकता देने के कारण प्रभावित हो रहा है।

देश में आर्थिक मंदी से हर सेक्टर का बुरा हाल है। अर्थिक मंदी से सबसे ज्यादा ऑटो सेक्टर प्रभावित हुआ है। कई बड़ी कंपनियां कई दिनों के लिए प्रॉडक्शन पर रोक लगा चुकी हैं और इस क्षेत्र से जुड़े लाखों लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं और कई नौकरियां जाने की कतार में हैं। इसके बाद भी मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के बजाए सिर्फ ठीकरा फोड़ने में जुटी है। चेन्नई में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का जो हाल है उसके पीछे लोगों का ओला-उबर से ज्यादा सफर और बीएस-6 भी कारण है।

सीतारमण ने कहा कि आजकल लोग गाड़ी खरीदकर ईएमआई भरने से ज्यादा मेट्रो में सफर करना या ओला-ऊबर का उपयोग करना पसंद करते हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि इस सेक्टर में गिरावट एक गंभीर समस्या है और इसका हल निकाला जाना चाहिए।
निर्मला सीतारमण के बयान पर कांग्रेस पलटवार किया है। कांग्रेस ने ट्वीट करके पूछ, “वित्तमंत्री जी ये बताइए कि स और ट्रक की बिक्री क्या इसलिए कम हो गई है कि क्योंकि इसे भी लोगों ने खरीदना बंद कर दिया है। यह सही नहीं है वित्तमंत्री जी।”

मारुति के चेयरमैन आरसी भार्गव ने इस बात से इनकार किया था कि ओला, ऊबर की वजह से कारों की बिक्री पर प्रभाव पड़ा है। उन्होंने इसके लिए सरकार की नीतियों को भी जिम्मेदार ठहराया। भार्गव ने बताया कि पेट्रोल-डीजल की ऊंची टैक्स दर और रोड टैक्स की वजह से भी लोग कार खरीदने से कतराने लगे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि जीएसटी की कटौती से इसमें कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। वहीं इंडस्ट्री इस सुस्ती से निपटने के लिए जीएसटी कट की मांग कर रही है।