Thursday, February 27, 2020

न्यूज़ अलर्ट
1) बीमार पिता से नकार पाकिस्तान का करती जय जयकार.... 2) असम संस्कृति की रक्षा करना सरकार का दायित्व.... 3) गरवारे शिक्षण संस्थान में मनाया गया वसंतोत्सव.... 4) आम नागरिक की मांग निजीकरण करो सरकार .... 5) मनसे के आंदोलन से घबराकर उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक.... 6) 'मीडिया में विज्ञापन की भूमिका' पर संचार-संवाद का आयोजन.... 7) राष्ट्रीय स्तर पर NRC लाने का अभी तक नहीं हुआ कोई निर्णय - नित्यानंद राय ....
महाराष्ट्र में कांग्रेस को दूसरा झटका, उर्मिला मातोंडकर के बाद कृपाशंकर सिंह ने पार्टी से दिया इस्तीफा
Tuesday, September 10, 2019 - 8:17:32 PM - By जावेद अहमद

कृपाशंकर सिंह का कांग्रेस को झटका
महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगातार दो झटके लगे हैं. दिन में उर्मिला मातोंडकर ने पार्टी से इस्तीफा दिया, फिर शाम को महीनों की लुकाछुपी के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता कृपाशंकर सिंह ने पार्टी छोड़ दी. बता दें कि 2004 में महाराष्ट्र सरकार में राज्यमंत्री रहे कृपाशंकर सिंह ने अपना इस्तीफा मल्लिकाअर्जुन खड़गे को सौंपा. मल्लिकार्जुन खड़गे महाराष्ट्र कांग्रेस के इंचार्ज हैं.

सूत्रों के मुताबिक, कृपाशंकर सिंह ने इस्तीफा कश्मीर से आर्टिकल 370 व 35A हटाने पर कांग्रेस के लिए गए स्टैंड से नाखुश होकर दिया है. वो पहले ही कश्मीर पर मोदी सरकार की भूमिका का खुलकर स्वागत कर चुके हैं. कई बार विधायक रहे कृपाशंकर सिंह मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष तो रहे ही हैं, महाराष्ट्र के पूर्व गृह राज्यमंत्री भी रह चुके हैं लेकिन उनकी सबसे बड़ी यूएसपी उत्तर भारतीयों में उनका प्रभाव है. मुंबई में उत्तर भारतीयों का तगड़ा वोट बैंक और कई सीटों पर तो ये निर्णायक भूमिका भी अदा करता है.

पिछले लोकसभा के चुनाव के दौरान ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि कृपाशंकर सिंह कभी भी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो सकते हैं. लेकिन उन्होंने तब ऐसा नहीं किया. लेकिन पिछले दिनों उनकी सरगर्मियां काफी बढ़ गई थीं. उनकी नजदीकी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ जगजाहिर है. वैसे कयास यही लगाया जा रहा है कि वे भाजपा में ही जाएंगे. हालांकि कृपाशंकर के रिश्ते शिवसेना के साथ भी उतने ही मधुर हैं. पिछले दिनों जब उनके घर गणेश दर्शन को आगे पीछे देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पहुंचे थे तभी राजनीतिक पंडितों ने यह अनुमान लगा लिया था कि अब कृपाशंकर सिंह देर न करते हुए कांग्रेस को जय महाराष्ट्र कर सकते हैं. और आखिर वही हुआ. माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में वे अपनी पसंदीदा कालीना सीट के साथ-साथ चांदिवली, मालवणी याा दिंडोशी जैसे मुस्लिम और उत्तर भारतीय बहुल इलाकों से भाजपा या शिवसेना का चेहरा बनकर चुनाव लड़ सकते हैं.