Wednesday, May 22, 2019

न्यूज़ अलर्ट
1) सुदेश बेरी चा आपल्या मुलाच्या डेब्यूट चित्रपटासाठी सल्ला.... 2) 'फैनी' का खतरा, ओडिशा-केरल समेत कई राज्यों में हाई अलर्ट घोषित .... 3) मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष पद से निरुपम की छुट्टी- मिलिंद देवड़ा बने नए अध्यक्ष .... 4) चेन्नई का IPL 2019 टूर्नामेंट में विजयी आगाज-बेंगलुरू को 7 विकेट से हराया .... 5) आरएसएस स्वयंसेवक के घर पर देसी बम फटा, दो बच्चे घायल, घर से मिले घातक हथियार.... 6) 70 गैर सरकारी संगठन हुए एकजुट- चलाएंगे मोदी विरुद्ध कैंपेन .... 7) जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष बने देश के पहले लोकपाल- राष्ट्रपति कोविंद ने लगाई मुहर....
भारत को रूसी हथियारों के निर्यात दर में कमी- नौ साल में 42 प्रतिशत गिरा
Tuesday, March 12, 2019 11:25:34 AM - By एजेंसी

पिछले चार साल में रूस की हिस्सेदारी घटी
स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च (सिपरी) की तरफ से तैयार की गई एक ताजा रिपोर्ट सामने आयी है जिसके अनुसार भारत के हथियारों के आयात में पिछले चार साल में रूस की हिस्सेदारी घटी है.

इस रिपोर्ट की मानें तो 2009-13 के बीच देश के कुल हथियार आयात में रूस से आयातित हथियारों की हिस्सेदारी 76 फीसदी थी जो 2014-18 में घटकर 58 फीसदी रह गयी. स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) की ‘अंतरराष्ट्रीय हथियार लेन-देन का रुख-2018' रपट में यह जानकारी दी गयी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूरी कोशिश हथियारों के मामले में देश की आयात पर निर्भरता को खत्म करना है.

रिपोर्ट के अनुसार 2009-13 के मुकाबले 2014-18 में देश में हथियारों का आयात 24 प्रतिशत तक घटा है. आयात के आंकड़ों में कमी की एक अहम वजह विदेशी हथियारों की आपूर्ति में देरी होना भी है. जैसे कि रूस को लड़ाकू विमान का ऑर्डर 2001 में और फ्रांस को पनडुब्बी का ऑर्डर 2008 में दिया गया था. हालांकि इन सबके बावजूद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा हथियार आयातक है.

वैश्विक हथियार आयात में भारत का हिस्सा साढ़े नौ प्रतिशत के करीब है. वित्त वर्ष 2014-18 के बीच अमेरिका और फ्रांस से भारत को हथियारों का निर्यात बढ़ा है.